मदत (कविता)

जंगल में एक रहता बंदर,

कूदता पानी के अंदर|

शेतानी तो बहुत करता,

पर शेर से बहुत डरता|

एक दिन बंदर दुखी था,

याद आ रही थी उसकी मां|

तब एक हाथी आया,

केला एक लाया|

जब हाथी, केला खाने गया तो,

देखा उस दुखी बंदर को|

जब हाथी ने पूछा,

तो बंदर कुछ न बोला,

पर उसने अपना डिब्बा खोला|

उसमें था एक सोने का सिक्का,

पर अब गायब था वो सिक्का|

दोनो ने मिलकर ढूंढा,

पर वो सिक्का कही न मिला|

तब हाथी को याद आया की

दूसरे पेड़ पर तो देखा ही नहीं|

जब हाथी ने पेड़ पर देखा,

तब वो सिक्का था डाली पर|

बंदर ने धन्यवाद कहा,

तब वो हाथी चल पडा वहां|

–  नक्षत्र शाह

The URI to TrackBack this entry is: https://nakshatrashah.wordpress.com/2010/08/02/%e0%a4%95%e0%a4%b5%e0%a5%80%e0%a4%a4%e0%a4%be/trackback/

RSS feed for comments on this post.

One CommentLeave a comment

  1. Hi Nakshatra! I have updated your blog to make it more beautiful. Hope you will write many more stuff to post here!! Love!!


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: